स्वर्ण जयन्ती पोषाहार योजना

स्वर्ण जयन्ती पोषाहार योजना

हिमाचल प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर ने बजट 2020-21 में विभिन्न योजनाओं को शुरू करने की घोषणा की। उनमें से एक है “स्वर्ण जयन्ती पोषाहार योजना”। इस योजना के अंतर्गत बच्चों को पौष्टिक आहार प्रदान किया जाएगा। यह योजना एक अम्ब्रेला योजना की तरह कार्यान्वित की जाएगी जिसके अंतर्गत निम्न घटक प्रस्तावित है :-

  1. प्रदेश में चलाए जा रहे आँगनबाड़ी केंद्रों में शिशुओं के लिए fortified आहार का प्रावधान किया जा रहा है। इन शिशुओं में कुपोषण की प्रवृति को जड़ से समाप्त करने के लिए आँगनबाड़ी केंद्रों में दिए जाने वाले आहार को और पौष्टिक बनाने के लिए “बाल पोषाहार टॉप-अप योजना ” का आरम्भ किया जाएगा। इसके लिए योजना के अन्तर्गत बच्चों को फल फल , दूध ,रेशायुक्त अतिरिक्त पौष्टिक आहार प्रदान किया जाएगा। इस उद्देश्य के लिए 2020-21 में 30 करोड़ रूपए खर्च किए जाएंगे।
  2. प्रदेश की प्राथमिक पाठशालाओं में प्री-प्राइमरी कक्षाएं शुरू की गई हैं। इन प्री -प्राइमरी कक्षाओं के छात्रों के लिए मध्यान्ह भोजन की व्यवस्था के लिए एक नई योजना “स्वस्थ बचपन ” शुरू की जायेगी। जिसके अपाठशालों में ही भोजन की व्यवस्था की जाएगी।
  3. इसके साथ ही पहली से आठवीं तक के सभी बच्चों को सप्ताह में एक दिन अतिरिक्त पौष्टिक आहार जैसे दूध अथवा स्थानीय फल की व्यवस्था के साथ टॉप -अप किया जाएगा। इसके लिए 11 करोड़ रूपये का अतिरिक्त प्रावधान किया जाएगा। स्कूलों में मध्यान्ह भोजन में double fortified नमक तथा fortified edible oil (विटामिन A &D ) युक्त भोजन उपलब्ध करवाया जाएगा।

Also read : Economic Survey of Himachal Pradesh(Overview)

Leave a Reply