Himachal Pradesh Weekly Current Affairs June (1st Week)

Himachal Pradesh Weekly Current Affairs June (1st Week)

हिमाचल सरकार द्वारा “skillregister.hp.gov.in” वेबसाइट की शुरुआत

  • मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने लॉकडाउन के दौरान प्रदेश में आने वाले प्रवासियों का डाटा बेस बनाने को सूचना प्रौद्योगिकी विभाग की ओर से विकसित स्किल रजिस्टर शुरू किया गया। इच्छुक व्यक्ति skillregister.hp.gov.in से पंजीकरण करवा सकते हैं।
  • विभिन्न कंपनियां और औद्योगिक घराने भी पोर्टल पर आवश्यकताएं दर्ज कर सकते हैं। पोर्टल के माध्यम से राज्य में लौटे लोग शैक्षणिक योग्यता ,कौशल और नौकरी की आवश्यकताओं के संबंध में जानकारी अपलोड कर सकते हैं।
  • इससे राज्य में उपलब्ध कौशल की पहचान करने और कौशल उन्नयन आवश्यकताओं के विश्लेषण में सहायता मिलेगी। यह उद्योगों को एक क्लिक पर कुशल श्रमशक्ति के बारे में जानकारी देने में सहायक सिद्ध होगा।

मुख्यमंत्री श्री जय राम ठाकुर देश के बेस्ट परफॉर्मिंग मुख्यमंत्री घोषित

  • मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर को देश की एक स्वतंत्र एजेंसी आईएएनएस -सी वोटर सर्वे ने देश देश का बेस्ट परफॉर्मिंग मुख्यमंत्री और भाजपा शासित राज्यों में सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री घोषित किया।
  • यह सर्वे संबंधित राज्यों में सभी मुख्यमंत्री की संतोषजनक रेटिंग के आधार पर किया गया है। हिमाचल में संतुष्टि का शुद्ध प्रतिशत 73.96 है। सर्वे में जय राम ठाकुर देश के सातवें सबसे लोकप्रिय मुख्यमंत्री के रूप में उभरे हैं।
  • संतुष्टि का शुद्ध प्रतिशत कर्नाटक में 67.21 प्रतिशत ,असम में 67.17 ,मध्य प्रदेश में 58.73 ,गुजरात में 58.53 ,और उत्तर प्रदेश में 57.81 प्रतिशत रहा। अखिल भारतीय संतुष्टि का औसत 57.81 प्रतिशत रहा।

हिमाचल शिखर सम्मान पुरस्कार 2017 और 2018

  • हिमाचल कला ,संस्कृति एवं भाषा अकादमी ने वर्ष 2017 और 2018 के लिए शिखर सम्मान पुरस्कार घोषित किये हैं।
  • दोनों वर्षों के दो-दो कुल चार शिखर सम्मान दिए जायेंगे। प्रत्येक शिखर सम्मान की राशि एक लाख रूपये प्रदान की जाएगी।
  • वर्ष 2017 का साहित्य शिखर सम्मान प्रदेश के प्रसिद्ध विद्वान प्रो केशव शर्मा और प्रसिद्ध लोक गायक ,संगीतज्ञ मोहन राठौर को 2017 का कला संस्कृति शिखर सम्मान प्रदान किया जाएगा।
  • वर्ष 2018 का शिखर साहित्य सम्मान प्रसिद्ध लेखक ओ सी हांडा को और काँगड़ा की दिनेश कुमारी को कला एवं संस्कृति शिखर सम्मान के लिए चुना गया।

हिमाचल प्रदेश मंत्रिमंडल ने 6वें राज्य वित्तायोग के गठन को दी मंजूरी

  • हिमाचल प्रदेश मंत्रिमंडल की बैठक में 6वें राज्य वित्तायोग के गठन को मंत्रिमंडल ने अपनी सहमति दी है। आयोग पंचायतों तथा स्थानीय शहरी निकायों की वित्तीय स्थिति की समीक्षा करेगा। आयोग राज्य के संचित कोष से पंचायतों और शहरी निकायों के कर निर्धारण, डयूटी, टोल और शुल्क ग्रांट इन एड देने के साथ-साथ अन्य सभी मामले, जिनमें पंचायत और शहरी निकायों की वित्तीय स्थिति सुदृढ़ होगी, के बारे में राज्यपाल को सिफारिश करेगा।
  • मंत्रिमंडल ने राज्य के ग्रामीण/शहरी क्षेत्रों में 3/2 बिस्वा भूमि की पात्रता के लिए आय मानदंड में संशोधन करने के लिए आवासहीन व्यक्तियों/परिवारों की मौजूदा 50,000 रुपए प्रतिवर्ष आय को बढ़ाकर एक लाख रुपए प्रतिवर्ष करने की मंजूरी दी है ताकि अधिक से अधिक लोगों को इस योजना का लाभ मिल सके।

हिमाचल मंत्रिमंडल ने जिला मंडी के थुनाग में रेशम बीज उत्पादन केंद्र स्थापित करने का निर्णय लिया।

मंत्रिमंडल द्वारा राज्य आपदा शमन कोष गठित करने का निर्णय लिया गया

  • मंत्रिमंडल द्वारा राज्य आपदा शमन कोष गठित करने तथा आपदा शमन व्यय को पूरा करने के लिए आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 तथा 2011 के नियमों के तहत वित्त प्रबंधन के लिए दिशा-निर्देशों को मंजूरी प्रदान की, क्योंकि आपदा तैयारी, प्रतिक्रिया और गतिविधियां एक अलग राज्य आपदा प्रबंध कोष के तहत आती हैं। इस कोष के अन्तर्गत राज्य आपदा जोखिम प्रबंधन कोष का 20 प्रतिशत हिस्सा इस्तेमाल किया जाएगा जो कि वर्तमान वित्त वर्ष के दौरान 90.80 करोड़ रुपए होगा। इसके अतिरिक्त 50 करोड़ रुपए की राशि भूकम्प और भूस्खलन जोखिमों के लिए राज्य आपदा शमन कोष से अनुमोदित की गई है।

हिमाचल प्रदेश जैव विविधता में समृद्ध

  • मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि हिमाचल प्रदेश जैव विविधता में समृद्ध है, क्योंकि इसमें जीव-जन्तुओं की 5721 और वनस्पतियों की लगभग 3295 प्रजातियां पाई जाती हैं, जो देश की जैव विविधता का लगभग 7 प्रतिशत है।
  • राज्य सरकार प्रदेश समृद्ध जैव विविधता के संरक्षण के लिए प्रतिबद्ध है और राज्य में पंचायत स्तर पर 3871 जैव विविधता प्रबंधन समितियों का गठन किया गया है।

मुख्यमंत्री ने पर्यावरण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा प्रकाशित तीन प्रकाशन, ‘क्लाइमेट चेंज इम्पेक्ट्स एंड वलनरएबिलिटी असेंसमेंट इन हिमाचल प्रदेश, ‘ट्रेनर्ज गाइडबुक ऑन इंटेरिंग क्लाइमेट चेंज इन डवेल्पमेंट प्लानिंग इन हिमाचल प्रदेश’ और टेक्नोलाॅजी नीड्ज असेंस्मेंट फाॅर क्लाइमेंट चेंज अडेपटेशन इन वाटर सेक्टर इन हिमाचल प्रदेश “को भी जारी किया।

पर्यावरण नेतृत्व पुरस्कार 2019-20

  • एनजीओ श्रेणी में हीलिंग हिमालय फाउंडेशन कुल्लू को पहला पुरस्कार, द वाॅयस एनजीओ शिमला को द्वितीय और चंदन क्रांति मंडी को तृतीय पुरस्कार दिया गया।
  • ग्राम पंचायत कामरू सांगला किन्नौर ने ग्राम पंचायत श्रेणी में द्वितीय पुरस्कार हासिल किया।
  • उद्योग श्रेणी में मैसर्ज टौरेंट फार्मा बद्दी ने प्रथम पुरस्कार, मैसर्ज एनटीपीसी कोल डैम बिलासपुर और मैसर्ज ल्यूमिनस दोनों ने द्वितीय पुरस्कार, स्वामी विवेकानंद राजकीय काॅलेज घुमारवीं स्कूलों के अलावा अन्य शैक्षणिक संस्थानों में पहले स्थान पर रहे।
  • स्कूल श्रेणी में राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला शमरौर सोलन ने पहला पुरस्कार, डीएवी सीनियर सेकेंडरी पब्लिक स्कूल न्यू शिमला और राजकीय सीनियर स्कूल हिमगिरी चंबा दोनों ने दूसरा पुरस्कार जीता।
  • कार्यालय परिसर में एसजेवीएनएल काॅर्पोरेट ऑफिस काॅम्प्लेक्स शिमला को पहले और डीडीयू अस्पताल शिमला को अस्पताल की श्रेणी में दूसरा पुरस्कार दिया गया।

पॉलीथीन पुनर्चक्रण से संबंधित हिमाचल सरकार के प्रयास

  • मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि राज्य सरकार ने थर्माकोल कटलरी के उपयोग पर भी पूर्ण प्रतिबंध लगाया है, क्योंकि यह नाॅन बायोडिग्रेबल है और पर्यावरण को नुकसान पहुंचाना है। सरकार ने पत्तियों से बने डोना और प्लेट के उपयोग को बढ़ावा दिया है। यह बहुत आवश्यक है कि हम पर्यावरण के साथ तालमेल बनाए रखें। राज्य सरकार ने पाॅलीथीन खरीदने की योजना भी शुरू की है, जिसके तहत लोगों से 75 रुपये प्रति किलोग्राम की दर से पाॅलीथीन खरीदा जा रहा है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि पाॅलीथीन पर्यावरण में न जाए और पुनर्चक्रण कर इसका दोबारा से उपयोग किया जा सके। प्रयोग में लाए गए पाॅलीथीन का पुनः इस्तेमाल सड़कों की टायरिंग के लिए किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पाॅलीथीन जल संसाधनों के प्रदूषण और पानी की आपूर्ति को बाधित करने का एक प्रमुख कारण है।

Himachal Pradesh Weekly Current Affairs June (1st Week)

Read More : HP Current Affairs

Leave a Reply