Chamba Sevak Sangh | चम्बा सेवक संघ

Chamba Sevak Sangh | चम्बा सेवक संघ

  • मार्च 1936 में चम्बा रियासत में कुछ लोगों ने “चम्बा सेवक संघ’ नाम से एक संस्था का गठन किया।
  • बाद में यह संस्था राजनैतिक संगठन में बदल गई।
  • अतः सरकार ने इस संघ पर प्रतिबन्ध लगा दिया।
  • परिणामस्वरूप संघ ने अपनी गतिविधियों का केन्द्र डलहौजी बना लिया।
  • उधर चम्बा रियासत के प्रजा मण्डल ने मांग की कि रियासत में लोकप्रिय सरकार बना दी जाए। प्रजा मण्डल कार्यकर्ताओं ने परिवारवाद के विरुद्ध भी आवाज उठाई।
  • उनका यह कहना था कि रियासत के दीवान ने सारे अधिकार अपने हाथ में ले रखे हैं।
  • इसके परिणामस्वरूप जब आदोलन ने जोर पकड़ा तो कई व्यक्तियों को पकड़ लिया गया।
  • गाँधी जी ने अहिंसा से आंदोलन चलाने के लिए कहा। अंग्रेजी के समाचार पत्र “वी ट्रिब्यून” ने सम्पादकीय में लिखा “सोये हुए चम्बा में भी जागृति आ गई है।
  • लोकतान्त्रिक विचार पहाड़ी अवरोध को पार करके रियासत के लोगों के पास पहुंचे हैं और वे उत्तरदायी सरकार के लिए माँग कर रहे हैं।’

Chamba Sevak Sangh | चम्बा सेवक संघ

Read Also : History of Himachal Pradesh

Leave a Reply