बूढ़ी दिवाली | निरमण्ड की बूढ़ी दिवाली : जिला कुल्लू

बूढ़ी दिवाली | निरमण्ड की बूढ़ी दिवाली : जिला कुल्लू यह दिवाली प्राचीन काल से कुल्लू क्षेत्र में मनायी जाती है। इस दीवाली का दीपावली से कोई संबंध नहीं है। यह दीपावली से ठीक एक मास बाद मार्गशीर्ष की अमावस्या को मनाई जाती है। रात्रि को भिन्न-भिन्न दिशाओं से…

0 Comments

नगर गनेड़ उत्सव – जिला कुल्लू (हि.प्र.)

नगर गनेड़ उत्सव - जिला कुल्लू (हि.प्र.) यह उत्सव पौश मास के अमावस्या के चार दिन पश्चात होता है। एक व्यक्ति जिसे जठियाली कहते हैं, के सिर पर पुराने समय से रखे हुये भेड़ के सींग लगाते हैं। उसे मूसल पर बैठा कर कन्धे पर उठाते हैं और गांव…

0 Comments

पीपल जातर (Peepal Jaatar) ढालपुर-जिला कुल्लू

पीपल जातर (Peepal Jaatar) ढालपुर-जिला कुल्लू यह मेला अप्रैल मास के अन्तिम दिनों में ढालपुर के मैदान में मनाया जाता है। यहाँ पर एक पीपल और चबूतरा होता था। चबूतरे पर कुल्लू राजा अपने दरबारियों के साथ मेला देखता था और पीपल के सामने नाटी होती थी। उस पीपल…

0 Comments

शाढ़ी जातर – जिला कुल्लू हिमाचल प्रदेश

शाढ़ी जातर - जिला कुल्लू हिमाचल प्रदेश यह उझी घाटी का एक बड़ा मेला है जो नगर में त्रिपुरा सुन्दरी के मन्दिर के सामने मनाया जाता है। यह मेला ज्येष्ठ मास में मनाया जाता है परन्तु देवी त्रिपुरा सुन्दरी की "सोह"(क्रीड़ा स्थल) शाढ़ी होने के कारण इसे शाढ़ी जातर…

0 Comments

HP GK in Hindi [Customs Family Marriage Kinship in HP]

HP GK in Hindi [Customs Family Marriage Kinship in HP] जानेरटंग (जानेकांग ) विवाह का कौन सा रूप है ?(A) संस्थागत(B) प्रेम विवाह(C) जबरन विवाह(D) किसी की पत्नी को भगा कर विवाह करनाउत्तर : संस्थागतझांजराड़ा,गड्डर या परैणा किसका प्रकार है ?(A) मृत्यु संस्कार का(B) विवाह का(C) जन्म का(D) इनमें…

0 Comments

HP GK in Hindi: Famous Fair and Festival of Himachal Pradesh

HP GK in Hindi: Famous Fair and Festival of Himachal Pradesh मण्डी के किस राजा ने शिवरात्रि मेले को एक सांस्कृतिक त्योहार का स्वरूप दिया ?(A) सूरजसेन(B) बाहू सेन(C) वीर सेन(D) बाण सेनउत्तर : सूरजसेनमणिमहेश यात्रा किस महीने में होती है ?(A) मार्च में(B) अप्रैल में(C) सितम्बर में(D) जनवरी…

0 Comments

पंगवाल जनजाति की शादी की रस्में

पंगवाल जनजाति की शादी की रस्में पांगी में विवाह की पूरी रस्म के चार प्रक्रियाएं होती है। इनका नाम है, पिलम, फक्की, छक्की और शादी। यहाँ शादी के लिये लड़के वाले ही लड़की वाले के यहां जाते हैं और प्रार्थना करते हैं। सर्व प्रथम लड़के का पिता अपने किसी…

0 Comments